नानी का घर, दादी का घर

होके आए इंडियाकैसा लगा?”, सोफ़े पर उलट के फिर पलट के कूदते आरूष को पूछा मैंने। 

नीहा हंसने लगी। “बताओ बेटा, प्राची आँटी कुछ पूछ रही हैं ना”? 

आरूष ने गोल गोल आँखें करके कहा “पहले मैं नानी के यहाँ मुंबई गया था, बहुत मज़ा आया, वो 27th फ़्लोर पर रहती हैं, उनके घर सेसी वियु है”।  नीहा थोड़ा फूल के कुप्पा होके बैठ गयी। 

“अच्छा सही है ना, नानी तो खूब खुश होती होंगी की आरूष आया है दोहा से”? 

“हाँ बहुत खुश होती थीं, उन्होंने अपना क्रेडिट कार्ड दिया था हमको शोपिंग के लिए, रोज़ कुछ ना कुछ ऑर्डर कर देती थीं लंच के लिए, मम्मी और मैं जब तक सो के उठते थे ब्रेकफास्ट और लंच की डिलीवरी आ जाती थी”। 

नीहा ने गला साफ़ करके बड़ी ख़ुशी से बताया की उसकी माँ बेंकिंग कंसलटेंट हैं तो बहुत बिज़ी रहती हैं। भाभी भी इंजीनियर है तो घर मेंरहना मुश्किल होता है। “यू नो मुंबई इस सो फ़ास्ट”। बहुत गर्व से उसने मायके के शानदार पेंट्हाउस फ़्लेट का, भाभी भाई की जॉब का, पापा के बिज़नेस का बखान किया। 

“हाँ सही है”। मैंने सोचा दिल में की आजकल की जेनेरेशन और रिश्ते कितने बदलते जा रहे हैं?

तभी आरूष की आवाज़ फिर आयी “पर सबसे ज़्यादा मज़ा तो दादी के यहाँ आया, वहाँ हल्द्वानी में।” दादी दादा का घर बहुत बड़ा नहींहै पर बगीचा है ना उसमें दादी का निम्बू का पेड़ लगा है। उसकी पत्तीयों की और निम्बू की शिकंजी बहुत टेस्टी होती है। दादी आलू की सब्ज़ी, दाल और स्टार शेप की चपाती बनाती थीं। उसपर घी भी लगाती थीं। खाने ke साथ एक बड़ा सा खीरा काट उसपे मस्त चाटमसाला स्प्रिंकल करके खाने  को देती थी।शाम को अनार काट के खिलाती थीं। हम रोज़ दादा जी के साथ टेम्पल जाते थे या फिर उनके फ़्रेंड्स के यहाँ जाते थे”। “सब के सब बोलते थे ये तो हमारी तरफ़ का है ही नहीं, बहु की श्क्क्ल है”। 

नीहा अनमनी हो उठी। मैंने भी फिर बात चीत का टौपिक चेंज कर दिया। बच्चे वाक़ई भगवान का ही रूप होते हैं। सब महसूस करते हैं, पैसा भी प्यार भी। 

Leave a Reply