Sabakha delight! (Dates shake)

Sabakha is one of the extreme sweet variety of the dates in gulf region. One date is good enough for two cups of sugary milk tea.

So basically it is a dates shake recipe. You can use any kind of dates for this shake.

There is a trick to make this yum shake. You need to grind dates n sugar n vanilla essence for a bit longer time first.

Ingredients for 2 glasses full of shake.

1/2 Cup of Sabakha or any kind of dates

1/4 Cup sugar

1 Tbsp Vanilla essence

2 Cups of chilled milk

2 Cups of chilled/frozen water

Method –

1- In a mixi jar put in dates, sugar, vanila essence with little milk and grind it very well. For almost 2 minutes on regular intervals.

2- Now add milk and grind again.

3- Finally add water and blend well.

4- Serve immediately and if you have plans to serve later do blend it again before serving as dates paste will thicken up after sometime.

Cashewlicious – The mint salty smoothie!

Benefits of cashews and mint with curd in one go.

Ingredients –

1- 1/4 Cup cashews

2- 1 Medium sized cucumber

3- 1 Cup curd

4- 1 Small green chilly chopped

5- 1 Tbsp Sendha salt

6- 1 Tsp sugar

7- 1 Tsp black pepper powder

8- 2 Cups of chilled water

9- 3-4 Ice cubes (optional)

Method – Grind (blend) all ingredients except water and ice cubes in a mixi pot.

Now pour in water with ice cubes and grind(blend) very well. Serve immediately.

Omani pilaf (Pulao) – Forgotten recipe!

Omani pilaf(pulao) is a forgotten delicacy now a days. I had it first in Muscat during my official picnic. One of our Palestine boss bought this in a pool party. He also suggested that it is a forgotten recipe. This pulao was famous as Miskin pulao( means poor people biryani).

The basic concept story about this recipe was that in ancient time people had access to spices due to sea traders but use of fresh vegetables or very fresh meat was quite rare. They used to make fragrant rice often and adding pulses was a common practice too.

Quite easy to make but few things to keep in mind if you really wish to have a very fragrant pilaf(pulao).

For making 4-5 people’s patter –

Ingredients –

6 Cups of basmati rice

2 Cups of chana dal or black masoor dal

1 Cup desi ghee

1/2 cup mix of one cinnamon stick, 6-8 green cardamoms(smashed), 4-6 black cloves, 1 Tbsp black pepper powder, Salt according to taste

2 Cups of thick curd mixed with 2-4 Tbsps dry mint leaves powder, 6-8 fresh garlic paste

Water – to the same level of ingredients

Method –

1- Wash mix of dal and rice very well and soak for 20-30 minutes.

2- In a 5 ltrs cooker (we need more steam so big cooker), heat it on high flame, lower flame and add desi ghee. Let it melt quickly.

3- Strain the rice and dal mix very well.

4- Now add all dry spices mix to melted n warm desi ghee and fry for few seconds only.

5- Now add dal and rice mix and increase the flame.

6- Keep frying the rice and dal for 3-4 minutes on high flame.

7- Now add curd mix.

8- Fry again for 2 minutes.

9- Add water to the mixture and increase little water if you can see the rice. Bit not too much.

10- Let this boil n bubble.

11- Close the lid and take 3 whistles on high flame and 1 whistle on low flame.

12- Open it after one hour only.

13- Serve with fresh mint n curd raita.

Marwari kadak ka atta (For crispiness).

One of our kitchen Maharaj(cook) used to bring this powder in my in laws home. His samosas, paranthas, vadas and kachoris were amazingly crispy. I thought it is a maida or cornflour. But one fine day his wife Usha Aunty(Misrani- cook) told me to how to make it with few strict tips and also to how to use it as well.

Ingredients –

1 Cup Sabudana (sago seeds)

1 Cup Poha (Chivda-flattened rice)

1/2 Cup rice flour

1/2 Cup corn flour

Method-

2 Tbsps of baking soda (khaney ka soda- soda by carb)

1- Mix all dry ingredients in a big bowl, cover it with ultra clean cotton cloth and keep in sun light for 2-3 hours. (A must thing to do).

2- Now let it cool down.

3- Put in mixi zar and sprinkle baking soda over it. (Sprinkle it, please do not put just like that).

5- Store in a box and keep it in a cool and dry place.

4- Grind it very well. Sieve 2-3 times in a very ultra thin sieve.

6- Because there is no salt so you can use it in jalebis and shakkarpare mix as well for crispiness.

7- It is not a rising powder. It is for stiffening and crispiness only.

How to use it –

Be cautious. Use only 4-6 tbsps if you are making kachoris, paranthas or samosas along with little extra oil for four people. Increases or decrease according to the ingredients. If you are making six samosas only 2-4 tbsps of this powder is good enough.

Do try, thank me later.

Why we are not talking/making Cashew powder bark(Chikki)?

Lols. Loved these lines a lot. So thought of using these as my recipe’s title.

This is a totally new kind of caramel popcorn making time idea. We tried and found that it is actually a no fail recipe. Very quick(trust me) as well.

Ingredients –

1- 3 Cups of powdered cashews

(You need to warm cashews for a minute on high in the microwave before grinding)

2- 1/4 Cup cashews broken pcs for garnishing.

3- 3 Cups sugar mixed with 1/2 cup of butter

4- 1/2 Tsp Soda by carb (a must- to make batk/chikki soft crunchy)

5- 1 Tap vanilla essence

6- 1 Tbsp finest powder of green cardamom(optional)

7- One big metal tray greased well for spreading the bark.

Method –

1- Take a heavy bottom pan and warm butter and sugar in it on low flame.

2- The moment it melts well and turns light brownish, mix in soda by carb with vanilla essence, mix (whisk) well. In high speed but carefully.

3- Now close the flame and immediately put in cashew powder and cardamom powder. Keep mixing very well.

4- Pour in greased metal tray and spread it as widely as you can.

5- Let it cool for 50-60 minutes and after that loft from one corner with knife slightly and start breaking into the pcs. Yummmm!!!

Hath ka kamaal(Hindi story).

अनुज बड़ा हैरान हो गया जब सोसाइटी की मीटिंग में सब ने स्वर में कहा की वार्षिकोत्स्व के डिनर प्रोग्राम के लिए हलुआ और खीर उसके घर से ही आएगा। अभी जुम्मा जुम्मा सात महीने पहले ही वह अपनी पत्नी नीतू और बच्चों के साथ यहाँ शिफ्ट हुआ था। पापा के चल बसने के बाद जब तीनो भाईओं में हिस्से बांटे हो गए तो घर परिवार बिखर गया था। वो घर में सबसे छोटा था। दोनों भाभियाँ इंजीनियर थी। उसकी पत्नी घरेलु पसंद करके लायी गयी थी ताकि घर का काम नौकरानी धोबिन की देखभाल व् उन दोनों भाईओं के बच्चों के ट्यूटरों पर नजर रखने को एक महिला घर में तो रहे। वो समझता सब था परन्तु सबसे छोटा और सबसे कम तनख्वाह पाने वाला सदस्य होने के कारण चुप रहके अपनी नौकरी में व्यस्त रहता था।

थोड़े समय के बाद एक एक करके उसको भी दो बेटे हो गए। पत्नी और भी ज्यादा खटने लगी। पापा सब देखके भी अनजान बने रहते थे क्यूंकि उनकी दवाइओं का खर्चा दोनों बड़े बेटे ही करते।स्वार्थवश वह जानबूझकर दिन भर छोटी बहु को फ़ोन पर आदेश देती दोनों बहुओं के व्यवहार को भी अनदेखा कर देते। नीतू बेचारी दिन भर पूरे घर में काम करती दौड़ दौड़ के। हलकान हो जाती पर चूं न कर पाती।

पूरे घर के लिए नीतू प्याज पुदीने के परांठे आलू की रसीली सब्ज़ी और रबडी बनाती तो कोई ये भी नहीं पूछता की तुम्हारे लिए बचा की नहीं। नवरात्री में दोनों जेठानियाँ भर भर के बच्चों के दोस्तों को बुलवा लेती पर कभी रसोई में पैर भी न रखती। नीतू हलवा चने सुखी सब्ज़ी रायता बना के सुबह से तैयार रहती और गरम गरम
पूरियां उतार के बड़े बड़े थाल बहार भिजवा देती। पसीने में नहाती हुयी खुद के पैर दबाती रहती साथ साथ में। कभी सारा परिवार मेंगो आइसक्रीम की फरमाइश करता तो सारा दिन फ्रिज में चार चार चक्कर लगाके बार बार आइसक्रीम को मिक्सी में घोट घोट के जमाती। क्यूंकि बड़ी जेठानी ने फ़ोन पे आर्डर देके ऐसे ही करने को कहा था। सफ़ेद रसगुल्ले बड़े बड़े ही खाये जायेंगे तो दो किलो पनीर फेंट फेंट के उसके कंधे दर्द करने लगते पर दोनों जेठानियाँ बड़ी बेशर्मी से डोंगे भर भर के अपने रूम्स में ले जाती। नीतू चुपचाप उनका ड्रामा देखती रह जाती। पति अनुज सब देख के भी अनदेखा कर जाता।

कभी किसी भाभी के बच्चे का बर्थडे है तो केक तक उसकी पत्नी घर पे ही बना लेती थी. उसके हाथ के रसीले छोले और बड़े बड़े खस्ता पनीर भरे भठूरे बनते समय जो बढ़िया खुशबु पूरे मोहल्ले में उठती थी उसका तो कोई जवाब ही नहीं था.

फिर ससुर के गुजर जाने के बाद सब कुछ बँट गया। पापा की देख रेख का खर्चा हम करते थे करके उनको छह करोड के घर के बिकने पे कुल डेढ़ करोड दिए दोनों भाईओं ने। जिन भाभिओं के कहने पे वो अपनी पत्नी के खाने में पहनने ओढ़ने में दिन रात गलतियां निकालता था उन भाभिओं ने एक बार अपने पतिओं से यह नहीं कहा की क्यों हिस्सा मार रहे हो छोटे भाई का?

अनुज खून का घूँट पी के रह गया। सत्तर लाख का फ्लेट खरीद के वो इस सोसाइटी में आ बसा था। अब इस सोसाइटी में आते ही उसके परिवार के साथ कई परिवारों का आना जाना शुरू हुआ तो दिन रात उसके घर भीड़ लगने लगी। पत्नी नीतू ने घर पे ही अचार मुरब्बे नमकीन मीठा बनके बेचना शुरू कर दिया। क्यूंकि ज्यादातर कामकाजी महिलाएं हैं सोसाइटी में तो कई महिलाओं ने उसको घर पे ही बच्चों का क्रेच चलाने की राय दे डाळी। नीतू ने हिम्मत करके वो भी खोल लिया।

कोई दो साल गुजरे तो एक दिनअनुज नीतू की कमाई का हिसाब लगाने बैठा तो वह दंग रह गया की घर पे रहके जरा सी तारीफ करने पर उसकी पत्नी ने क्या कमाल के पैसे कमा लिए थे। उसको बहुत पछतावा हुआ की उसने अपनी पत्नी के साथ कितना बुरा सलूक किया था एक समय मे।

पर किस्सा अभी बाकी था जैसेः। एक दिन उसके बच्चों की टीचर ने उसको ईमेल भेज के स्कूल बुलाया और उसकी पत्नी को स्कूल बुलाके बच्चों को कुकिंग करना सीखने को कहा। अनुज को अब समझ आया की कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता बस लगन और समझ होनी चहिये।

उसको बहुत हंसी भी आयी की कहाँ उसकी पत्नी को नौकरानी समझने वाली भाभियाँ अब हजारों रूपये नोकरानिओं को दे रही हैं कहाँ उसकी सीधी साधी पत्नी ने दिन रात रसोई का काम करके अब वो दक्षता हासिल कर ली थी की घर पे रहके ही वो उसकी दोनों भाभिओं से भी कई गुना पैसा कमा रही थी.